Sardar Sarovar Dam

सरदार सरोवर बांध

परियोजना-

नर्मदा नदी भारत की पांचवीं सबसे बड़ी (1312 किमी. लंबी) नदी है। अमरकंटक से निकल कर नर्मदा नदी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र एवं गुजरात होते हुए खंभात की खाड़ी में गिरती है। नर्मदा नदी पर 30 बड़े बांधों का निर्माण किया जा रहा है, जिसमें से एक ‘सरदार सरोवर बांध परियोजना’ भी है। इस परियोजना का शिलान्यास 5 अप्रैल, 1961 को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने किया था। हाल ही में यह परियोजना राष्ट्र को समर्पित की गई।

  • 17 सितंबर, 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के नर्मदा जिले के केवडिया में ‘सरदार सरोवर बांध परियोजना’ का उद्घाटन किया।
  • यह परियोजना नर्मदा नदी पर गुजरात राज्य के भरूच जिले के ग्राम ‘बड़गाम’ में स्थित है।
  • सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई 138.68 मी. (455 फिट) और लंबाई 1210 मी. है।
  • यह बांध भारत का तीसरा सबसे ऊंचा (163 मीटर) कंक्रीट बांध है, जबकि पहले एवं दूसरे सबसे ऊंचे बांध क्रमशः भाखड़ा बांध (226 मी., हिमाचल प्रदेश) और लखवार बांध (192 मी., उत्तराखंड) हैं।
  • यह बांध विश्व का दूसरा सबसे बड़ा गुरुत्व बांध (Gravity Dam) है, जबकि पहला संयुक्त राज्य अमेरिका का ग्रैंड कुली बांध है।
  • 85000 ‡यूमेक्स (30 लाख क्यूसेक) की ‘अधिप्लव प्रवाह क्षमता’ (Spillway Discharging Capacity) वाला सरदार सरोवर बांध विश्व का तीसरा बांध है, जबकि पहले एवं दूसरे बांध क्रमशः चीन का गजेनबा बांध (1.13 लाख क्यूमेक्स) और ब्राजील का टुकूरी बांध (1 लाख क्यूमेक्स) हैं।
  • मुख्य नियंत्रक (Head Regulator) पर 1133 क्यूमेक्स (40,000 क्यूमेक्स) क्षमता और 532 किमी. लंबी नर्मदा मुख्य नहर विश्व की सबसे बड़ी सिंचाई नहर है।
  • परियोजना के नदी तल विद्युत गृह की निर्धारित क्षमता 1200 मेगावॉट (6 × 200 मेगावॉट) और नहर शीर्ष विद्युत गृह की निर्धारित क्षमता 250 मेगावॉट (5 × 50 मेगावॉट) है।
  • परियोजना से गुजरात में 17.92 लाख हेक्टेयर और राजस्थान में 2.46 लाख हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि को सिंचाई सुविधा प्राप्त होगी।
  • सरदार सरोवर बांध के जलाशय का क्षेत्रफल 37000 हेक्टेयर है।
  • बांध का पूर्ण जलाशय स्तर (FRL : Full Reservoir Level) 138.68 मी. (455 फीट) निर्धारित किया गया है।
  • बांध का अधिकतम जल स्तर 140.21 मी. (460 फीट) है, जबकि न्यूनतम जलस्तर 110.64 मी. (363 फीट) है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *