स्मार्ट सिटी सूची

स्मार्ट सिटी सूची (चरण-4)

स्मार्ट सिटी:-
1-स्मार्ट सिटी की ऐसी कोई परिभाषा नहीं है, जो सर्वत्र स्वीकार्य हो, अलग-अलग लोगों के लिए इसका आशय अलग-अलग होता है।
2-स्मार्ट सिटी की संकल्पना, शहर-दर-शहर और देश-दर-देश भिन्न होती है और यह विकास के स्तर, परिवर्तन एवं सुधार की इच्छा, संसाधनों तथा शहर विशेष के निवासियों की आकांक्षाओं पर निर्भर करती है।
3-भारत सरकार के स्मार्ट सिटी मिशन के संदर्भ में स्मार्ट सिटी से तात्पर्य किसी ऐसे शहर से है, जो अपने नागरिकों को मूलभूत अवसंरचना, उच्च गुणवत्तायुक्त जीवन, स्वच्छ एवं स्थिर वातावरण तथा ‘स्मार्ट समाधानों’ (Smart Solutions) के अनुप्रयोग उपलब्ध कराता हो।

स्मार्ट सिटी मिशन:-

4-25 जून, 2015 को भारत सरकार द्वारा स्मार्ट सिटी मिशन का शुभारंभ किया गया था।
5-इस मिशन के तहत 100 स्मार्ट शहरों का विकास किया जाना है।
6-देश के प्रत्येक राज्य/संघ शासित क्षेत्र से न्यूनतम एक शहर को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने हेतु चुना जाना है।7-प्रत्येक चुने गए शहर को अगले पांच वर्षों तक 100 करोड़ रुपये प्रति वर्ष की दर से केंद्रीय सहायता प्राप्त होगी।
8-इतनी ही राशि का योगदान समान आधार पर राज्यों द्वारा भी किया जाएगा।

चरण-1:-

9-स्मार्ट सिटी मिशन के तहत जनवरी, 2016 में एक अखिल भारतीय प्रतियोगिता के माध्यम से चरण-1 (Round-1) में 20 शहरों का चयन किया गया, जिन्हें स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा।
10-इन 20 शहरों में भुवनेश्वर (ओडिशा) शीर्ष स्थान पर रहा, जबकि पुणे (महाराष्ट्र) एवं जयपुर (राजस्थान) को क्रमशः दूसरा एवं तीसरा स्थान प्राप्त हुआ।
11-इन 20 शहरों द्वारा अगले पांच वर्षों में कुल 50,802 करोड़ रुपये के निवेश का प्रस्ताव किया गया।

फास्ट ट्रैक चरण:-

12-केंद्र सरकार द्वारा मई, 2016 में फास्ट ट्रैक चरण में 13 स्मार्ट शहरों की सूची जारी की गई।
13-इस चरण में 23 राज्यों/संघ शासित क्षेत्रों के कुल 23 शहरों ने भाग लिया था।14-फास्ट ट्रैक चरण में चुने गए 13 शहरों में लखनऊ को शीर्ष स्थान प्राप्त हुआ।
15-इस चरण में वारंगल (तेलंगाना) द्वितीय एवं धर्मशाला (हिमाचल प्रदेश) तृतीय स्थान पर रहा।

चरण-2:-

16-सितंबर, 2016 में चरण-2 में केंद्र सरकार द्वारा 27 शहरों की एक सूची जारी की गई, जिन्हें स्मार्ट शहर के रूप में विकसित किया जाएगा।
17-इस चरण में कुल 63 शहरों ने भाग लिया था।इन 27 स्मार्ट शहरों की सूची में अमृतसर (पंजाब) शीर्ष स्थान पर रहा।18-उज्जैन, तिरुपति, आगरा, नासिक, मदुरई, तंजावुर, अजमेर एवं वाराणसी जैसे शहर इस सूची में शामिल थे।

चरण-3:-

19-जून, 2017 में केंद्र सरकार द्वारा चरण-3 के तहत 30 शहरों की एक और सूची जारी की गई, जिन्हें स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा।
20-इस सूची मे तिरुवनंतपुरम (केरल) शीर्ष स्थान पर था।
21-नया रायपुर (छत्तीसगढ़) को दूसरा, जबकि राजकोट (गुजरात) को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ।
22-इस सूची में उत्तर प्रदेश के तीन शहरों यथा झांसी (26वां स्थान), इलाहाबाद (28वां स्थान) तथा अलीगढ़ (29वां स्थान) को भी स्थान प्राप्त हुआ।

चरण-4:-

23-19 जनवरी, 2018 को केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्मार्ट सिटी चैलेंज प्रतियोगिता के चरण-4 के तहत विजेता शहरों की घोषणा की गई।
24-चरण-4 के तहत 9 शहरों का चुनाव किया गया है, जिन्हें स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा।
25-इन 9 शहरों में सिलवासा (दादरा एवं नगर हवेली) को शीर्ष स्थान प्राप्त हुआ है।
26-इरोड (तमिलनाडु) द्वितीय तथा दीव (दमन एवं दीव) तृतीय स्थान पर रहा।इस सूची में उत्तर प्रदेश के भी तीन शहरों को स्थान प्राप्त हुआ है।
27-ये तीन शहर हैं :-बरेली (5वां स्थान), मुरादाबाद (7वां स्थान) तथा सहारनपुर (8वां स्थान)।

निष्कर्ष-:

28-चरण-4 में चुने गए 9 शहरों सहित अब तक स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत कुल 99 शहरों का चुनाव किया जा चुका है।
उल्लेखनीय है कि चरण-4 के तहत केंद्र सरकार द्वारा शेष 10 शहरों की सूची जारी की जानी थी, लेकिन शिलांग (मेघालय) द्वारा अपना प्रस्ताव न प्रस्तुत किए जाने के कारण केवल 9 शहरों की सूची ही जारी की जा सकी।
अब तक घोषित 99 स्मार्ट शहरों में 203979 करोड़ रुपये के निवेश का प्रस्ताव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *